HINDI WORKSHEET FOR CLASS 4 – 5

1. गद्यांश को पढ़कर प्रश्नों के उत्तर दीजिए –

धनी को पता था कि आश्रम में कोई बड़ी योजना बन रही है, पर उसे कोई कुछ न बताता। “सब समझते हैं कि मैं नौ साल का हूँ इसलिए मैं बुद्धू हूँ। पर मैं बुद्धू नहीं हूँ !” धनी मन ही मन बडब़ड़ाया। धनी और उसके माता-पिता, बड़ी खास जगह में रहते थे- अहमदाबाद के पास, महात्मा गांधी के साबरमती आश्रम में।

 

 

जहाँ पूरे भारत से लोग रहने आते थे। गांधी जी की तरह वे सब भी भारत की स्वतंत्रता के लिए लड़ रहे थे। जब वे आश्रम में ठहरते तो चरखों पर खादी का सूत कातते, भजन गाते और गांधी जी की बातें सुनते। साबरमती में सबको कोई न कोई काम करना होता- खाना पकाना, बतर्न धानेा, कपड़े धानेा, कुएँ से पानी लाना, गाय और बकरियों का दूध दुहना और सब्जी उगाना। धनी का काम था बिन्नी की देखभाल करना। बिन्नी, आश्रम की एक बकरी थी।

 

धनी को अपना काम पसंद था क्योंकि बिन्नी उसकी सबसे अच्छी दोस्त थी। धनी को उससे बातें करना अच्छा लगता था। उस दिन सबुह, धनी बिन्नी को हरी घास खिला कर, उसके बर्तन में पानी डालते हुए बोला, “कोई बात ज़रूर है बिन्नी! वे सब गांधी जी के कमरे में बैठकर बातें करते हैं। कोई योजना बनाई जा रही है। मैं सब समझता हूँ।

 

(क) धनी को क्या पता था ?

——————————————————————————————————————————————————————————

 

(ख) धनी मन ही मन क्या बडब़ड़ाया ?

——————————————————————————————————————————————————————————

 

(ग) धनी और उसके माता-पिता कहाँ रहते थे ?

——————————————————————————————————————————————————————————

 

(घ) सभी लोग किस लिए लड़ रहे थे ?

——————————————————————————————————————————————————————————

 

 

(ङ) जब लोग आश्रम में ठहरते तो क्या करते थे ?

——————————————————————————————————————————————————————————

 

(च) साबरमती में सबको क्या काम करने होते थे ?

——————————————————————————————————————————————————————————

 

(छ) धनी क्या काम करता था ?

——————————————————————————————————————————————————————————

 

(ज) धनी की सबसे अच्छी दोस्त कौन थी ?

——————————————————————————————————————————————————————————

 

 

(झ) धनी को किससे बातें करना अच्छा लगता था ?

——————————————————————————————————————————————————————————

 

() धनी बिन्नी से क्या बोला ?

——————————————————————————————————————————————————————————

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *