टिकट अलबम

हिन्दी की पाठ्यपुस्तक वसंत में संकलित पाठ ‘टिकट अलबम’ पर आधारित वर्कशीट।

प्रश्न – अवतरण के आधार पर निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए।

टिकट अलबम

अब राजप्पा के अलबम को कोई पूछने वाला नहीं था। वाकई उसकी शान अब घट गई थी। राजप्पा के अलबम की, लड़कों में काफी तारीफ़ रही थी। मधुमक्खी की तरह उसने एक-एक करके टिकट जमा किए थे। उसे तो बस एक यही धुन सवार थी। सुबह आठ बजे वह घर से निकल पड़ता। टिकट जमा करने वाले सारे लड़कों के चक्कर लगाता। दो ऑस्ट्रेलिया के टिकटों के बदले एक फिनलैंड का टिकट लेता।

दो पाकिस्तान के बदले एक रूस का। बस शाम, जैसे ही घर लौटता, बस्ता कोने में पटककर अम्मा से चबेना लेकर निकर की जेब में भर लेता और खड़े-खड़े दूध पीकर निकल जाता। चार मील दूर अपने दोस्त के घर से कनाडा का टिकट लेने पगडंडियों में होकर भागता। स्कूल भर में उसका अलबम सबसे बड़ा था। सरपंच के लड़के ने उसके अलबम को पच्चीस रुपए में खरीदना चाहा था, पर राजप्पा नहीं माना। ‘घमंडी कहीं का’, राजप्पा बड़बड़ाया था। फिर उसने तीखा जवाब दिया था, “तुम्हारे घर में जो प्यारी बच्ची है न, उसे दे दो न तीस रुपए में।“ सारे लड़के ठहाका मारकर हँस पड़े थे।

1. अवतरण को अपनी तरफ से कोई नाम दीजिए-

2. राजप्पा के पास क्या चीज थी जिसकी शान अब घट गई थी ?

3. राजप्पा ने किस तरह टिकट जमा किए थे ?

4. राजप्पा को क्या धुन सवार थी ?

5. राजप्पा फिनलैंड के टिकट के बदले कहाँ के टिकट देता था ?

6. राजप्पा ने दो पाकिस्तान के टिकटों के बदले कहाँ का टिकट लिया ?

7. कनाडा का टिकट लेने राजप्पा कितने मील दूर गया ?

8. अवतरण के अनुसार किसका अलबम सबसे बड़ा था ?

9. सरपंच के लड़के ने राजप्पा का अलबम कितने रुपये में खरीदना चाहा ?

10. लड़के क्या सुनकर हंस पड़े ?

अकबरी लोटा

अक्षरों का महत्त्व

चिट्ठियों की अनूठी दुनिया

जैसा सवाल वैसा जवाब

टिकट अलबम

दादी माँ

पानी की कहानी

बिशन की दिलेरी

भगवान के डाकिए

मन करता है

झब्बर-झब्बर बालों वाले

मिर्च का मज़ा

मीरा बहन और बाघ

रक्त और हमारा शरीर

राख की रस्सी

लाख की चूड़ियाँ

लोकगीत

वीर कुँवर सिंह

सबसे अच्छा पेड़

साथी हाथ बढ़ाना

सूरदास के पद

हिमालय की बेटियाँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *