बाज और साँप

प्रश्न – निम्नलिखित अवतरण को पढ़कर नीचे लिखे प्रश्नों के उत्तर दीजिए-

1. एक दिन एकाएक आकाश में उड़ता हुआ खून से लथपथ एक बाज साँप की उस गुपफ़ा में आ गिरा। उसकी छाती पर कितने ही जख्मों के निशान थे, पंख खून से सने थे और वह अधमरा-सा जोर-शोर से हाँफ रहा था। जमीन पर गिरते ही उसने एक दर्द भरी चीख मारी और पंखों को फड़फड़ाता हुआ धरती पर लोटने लगा।

 

डर से साँप अपने कोने में सिकुड़ गया। कितु दूसरे ही क्षण उसने भाँप लिया कि बाज जीवन की अंतिम साँसें गिन रहा है और उससे डरना बेकार है। यह सोचकर उसकी हिम्मत बँधी और वह रेंगता हुआ उस घायल पक्षी के पास जा पहुँचा। उसकी तरफ कुछ दरे तक देखता रहा, फिर मन ही मन खुश होता हुआ बोला- “क्यों भाई, इतनी जल्दी मरने की तैयारी कर ली ?”

2. अचानक बाज ने अपना झुका हुआ सिर ऊपर उठाया और उसकी दृष्टि साँप की गुफा के चारों ओर घूमने लगी। चट्टानों में पड़ी दरारों से पानी गुफ़ा में टपक रहा था। सीलन और अँधेरे में डूबी गुफ़ा में एक भयानक दुर्गन्ध फैली हुई थी, मानो कोई चीज वर्षों से पड़ी-पड़ी सड़ गई हो।

 

 

3. सांप बोला, “सो उड़ने का यही आनंद है-भर पाया मैं तो! पक्षी भी कितने मूर्ख हैं। धरती के सुख से अनजान रहकर आकाश की ऊँचाइयों को नापना चाहते थे। कितु अब मैंने जान लिया कि आकाश में कुछ नहीं रखा। केवल ढेर-सी रोशनी के सिवा वहाँ कुछ भी नहीं, शरीर को सँभालने के लिए कोइ स्थान नहीं, कोइ सहारा नहीं। फिर वे पक्षी किस बूते पर इतनी डींगें हाँकते हैं, किसलिए धरती के प्राणियों को इतना छोटा समझते हैं। अब मैं कभी धोखा नहीं खाऊँगा, मैंने आकाश देख लिया और खूब देख लिया। बाज तो बड़ी-बड़ी बातें बनाता था, आकाश के गुण गाते थकता नहीं था। उसी की बातों में आकर मैं आकाश में कूदा था। ईश्वर भला करे, मरते-मरते बच गया।

 

अब तो मेरी यह बात और भी पक्की हो गई है कि अपनी खोखल से बड़ा सुख और कहीं नहीं है। धरती पर रेंग लेता हूँ, मेरे लिए यह बहुत कुछ है। मुझे आकाश की स्वच्छंदता से क्या लेना-देना? न वहाँ छत है, न दीवारें हैं, न रेंगने के लिए जमीन है। मेरा तो सिर चकराने लगता है। दिल काँप-काँप जाता है। अपने प्राणों को खतरे में डालना कहाँ की चतुराई है?

 

4. हमारा यह गीत उन साहसी लोगों के लिए है जो अपने प्राणों को हथेली पर रखे हुए घूमते हैं। चतुर वही है जो प्राणों की बाजी लगाकर जिदगी के हर खतरे का बहादुरी से सामना करे।

ओ निडर बाज! शत्रुओं से लड़ते हुए तुमने अपना कीमती रक्त बहाया है। पर वह समय दूर नहीं है, जब तुम्हारे खून की एक-एक बूँद जिदगी के अँधेरे में प्रकाश फैलाएगी और साहसी, बहादुर दिलों में स्वतंत्रता और प्रकाश के लिए प्रेम पैदा करेगी।

तुमने अपना जीवन बलिदान कर दिया कितु फिर भी तुम अमर हो। जब कभी साहस और वीरता के गीत गाए जाएँगे, तुम्हारा नाम बड़े गर्व और श्रद्धा से लिया जाएगा।

“हमारा गीत जिदगी के उन दीवानों के लिए है जो मरकर भी मृत्यु से नहीं डरते।“

 

(क) एकाएक क्या हुआ ?

उत्तर – —————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————–

 

(ख) बाज की दशा कैसी थी ?

उत्तर – —————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————–

 

(ग) बाज को देखकर सांप की क्या हालत हुई ?

उत्तर – —————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————–

 

(घ) गुफ़ा में पानी कहाँ से टपक रहा था ?

उत्तर – —————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————–

 

(ङ)  सांप ने क्या बात जान ली थी ?

उत्तर – —————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————–

 

(च) सांप की क्या बात पक्की हो गई थी ?

उत्तर – —————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————–

 

(छ) चतुर कौन है ?

उत्तर – —————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————–

 

(ज) बाज के बारे में क्या कहा गया है ?

उत्तर – —————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————–

 

(झ) किसका नाम गर्व और श्रद्धा से लिया जाएगा ? और क्यों ?

उत्तर – —————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————–

 

(ञ) समुद्र की लहरा का गीत किनके लिए है ?

उत्तर – —————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————–

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *