वीर कुँवर सिंह

हिन्दी की पाठ्यपुस्तक वसंत में संकलित पाठ ‘वीर कुँवर सिंह’ पर आधारित वर्कशीट।

प्रश्न – अवतरण के आधार पर नीचे लिखे प्रश्नों के उत्तर दीजिए।

वीर कुँवर सिंह

वीर कुँवर सिह के बचपन के बारे में बहुत अधिक जानकारी नहीं मिलती।  कहा जाता है कि कुँवर सिह का जन्म बिहार में शाहाबाद जिले के जगदीशपुर में सन् 1782 ई॰ में हुआ था। उनके पिता का नाम साहबजादा सिह और माता का नाम पंचरतन कुँवर था। उनके पिता साहबजादा सिह जगदीशपुर रियासत के जमींदार थे, परंतु उनको अपनी जमींदारी हासिल करने में बहुत संघर्ष करना पड़ा। पारिवारिक उलझनों के कारण कुँवर सिह के पिता बचपन में उनकी ठीक से देखभाल नहीं कर सके। जगदीशपुर लौटने के बाद ही वे कुँवर सिह की पढ़ाई-लिखाई की ठीक से व्यवस्था कर पाए।  कुँवर सिह के पिता वीर होने के साथ-साथ स्वाभिमानी एवं उदार स्वभाव के व्यक्ति थे।  उनके व्यक्तित्व का प्रभाव कुँवर सिह पर भी पड़ा। कुँवर सिह की शिक्षा-दीक्षा की व्यवस्था उनके पिता ने घर पर ही की, वहीं उन्होंने हिदी भाषा सीखी।

बाबू कुँवर सिह ने अपने पिता की मृत्यु के बाद सन् 1827 में अपनी रियासत की जिम्मेदारी सँभाली। उन दिनों ब्रिटिश हुकूमत का अत्याचार चरम सीमा पर था।  इससे लोगों में ब्रिटिश हुकूमत के ख़िलाफ भयंकर आक्रोश उत्पन्न हो रहा था। कृषि, उद्यागे आरै व्यापार का तो बहुत ही बुरा हाल था। रजवाड़ों के राजदरबार भी समाप्त हो गए थे।  भारतीयों को अपने ही देश में महत्त्वपूर्ण और ऊँची नौकरियों से वंचित कर दिया गया था।

इससे ब्रिटिश सत्ता के विरुद्ध देशव्यापी संघर्ष की स्थिति बन गई थी। ऐसी स्थिति में कुँवर सिह ने ब्रिटिश हुकूमत से लोहा लेने का संकल्प लिया। जगदीशपुर के जंगलों में ‘बसुरिया बाबा’ नाम के एक सिद्ध संत रहते थे। उन्होंने ही कुँवर सिह में देशभक्ति एवं स्वाधीनता की भावना उत्पन्न की थी। उन्होंने बनारस, मथुरा, कानपुर, लखनऊ आदि स्थानों पर जाकर विद्रोह की सक्रिय योजनाएँ बनाईं।  वे 1845 से 1846 तक बहुत सक्रिय रहे और गुप्त ढंग से ब्रिटिश हुकूमत के ख़िलाफ विद्रोह की योजना बनाते रहे। उन्होंने बिहार के प्रसिद्ध सोनपुर मेले को अपनी गुप्त बैठकों की योजना के लिए चुना। सोनपुर के मेले को एशिया का सबसे बड़ा पशु मेला माना जाता है। यह मेला कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर लगता है। यह हाथियों के क्रय-विक्रय के लिए भी विख्यात है। इसी ऐतिहासिक मेले में उन दिनों स्वाधीनता के लिए लोग एकत्र होकर क्रांति के बारे में योजना बनाते थे।

1. वीर कुंवर सिंह का जन्म कहां हुआ था ?

2. वीर कुंवर सिंह का जन्म कब हुआ था ?

3. वीर कुंवर सिंह की माता का क्या नाम था ?

4. वीर कुंवर सिंह के पिता का क्या नाम था ?

5. क्या कारण था कि वीर कुंवर सिंह के पिता वीर कुंवर सिंह की ठीक से देखभाल नहीं कर पाए ?

6. कुंवर सिंह के पिता कैसे व्यक्ति थे ?

7. किनके व्यक्तित्व का प्रभाव कुंवर सिंह पर पड़ा ?

8. कुंवर सिंह ने घर पर कौन सी भाषा सीखी ?

9. कुंवर सिंह के पिता की मृत्यु कब हुई ?

10. कुंवर सिंह के पिता की मृत्यु के समय कृषि, उद्योग और व्यापार की क्या स्थिति थी ?

11. रजवाड़ों के क्या समाप्त हो गए थे ?

12. भारतीयों को अपने ही देश में किनसे वंचित कर दिया गया था ?

13. जगदीशपुर के जंगलों में कौन से बाबा रहते थे ?

14. कुंवर सिंह में देशभक्ति और स्वाधीनता की भावना किस उत्पन्न की ?

15. कुंवर सिंह ने कहां-कहां विद्रोह की सक्रिय योजनाएं बनाई ?

16. सोनपुर में कौन सा मेला लगता है ?

17. सोनपुर का मेला किस अवसर पर लगता था ?

18. सोनपुर का मेला किस कारण विख्यात था ?

19. सोनपुर के मेले में लोग कैसी योजनाएं बनाते थे ?

अकबरी लोटा

अक्षरों का महत्त्व

चिट्ठियों की अनूठी दुनिया

जैसा सवाल वैसा जवाब

टिकट अलबम

दादी माँ

पानी की कहानी

बिशन की दिलेरी

भगवान के डाकिए

मन करता है

झब्बर-झब्बर बालों वाले

मिर्च का मज़ा

मीरा बहन और बाघ

रक्त और हमारा शरीर

राख की रस्सी

लाख की चूड़ियाँ

लोकगीत

वीर कुँवर सिंह

सबसे अच्छा पेड़

साथी हाथ बढ़ाना

सूरदास के पद

हिमालय की बेटियाँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *