साथी हाथ बढ़ाना

हिन्दी पाठ्यपुस्तक वसंत में संकलित गीत ‘साथी हाथ बढ़ाना’ पर आधारित वर्कशीट।

प्रश्न – गीत के आधार पर निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए-

साथी हाथ बढ़ाना

एक अकेला थक जाएगा, मिलकर बोझ उठाना।

साथी हाथ बढ़ाना।

हम मेहनत वालों ने जब भी, मिलकर कदम बढ़ाया

सागर ने रस्ता छोड़ा, परबत ने सीस झुकाया

फ़ौलादी हैं सीने अपने, फ़ौलादी हैं बाँहें

हम चाहें तो चट्टानों में पैदा कर दें राहें

साथी हाथ बढ़ाना।

 

मेहनत अपने लेख की रेखा, मेहनत से क्या डरना

कल गैरों की खातिर की, आज अपनी खातिर करना

अपना दुख भी एक है साथी, अपना सुख भी एक

अपनी मंजिल सच की मंजिल, अपना रस्ता नेक

साथी हाथ बढ़ाना।

एक से एक मिले तो कतरा, बन जाता है दरिया

एक से एक मिले तो जर्रा, बन जाता है सेहरा

एक से एक मिले तो राई, बन सकती है परबत

एक से एक मिले तो इंसाँ, बस में कर ले किस्मत

साथी हाथ बढ़ाना।

 

1. कवि और कविता का नाम लिखिए ?

2. मेहनत वालों ने जब भी मिलकर क़दम बढ़ाया है तो क्या हुआ है ?

3. अपनी मंजिल और रास्ता कैसा है ?

4. एक से एक मिलने पर कौन क्या बन जाता है ?

5. साथी हाथ बढ़ाना का क्या अर्थ है ?

अकबरी लोटा

अक्षरों का महत्त्व

चिट्ठियों की अनूठी दुनिया

जैसा सवाल वैसा जवाब

टिकट अलबम

दादी माँ

पानी की कहानी

बिशन की दिलेरी

भगवान के डाकिए

मन करता है

झब्बर-झब्बर बालों वाले

मिर्च का मज़ा

मीरा बहन और बाघ

रक्त और हमारा शरीर

राख की रस्सी

लाख की चूड़ियाँ

लोकगीत

वीर कुँवर सिंह

सबसे अच्छा पेड़

साथी हाथ बढ़ाना

सूरदास के पद

हिमालय की बेटियाँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *