HINDI VI 2015-16 2

E2 Assessment (2015-16)

Class – VI
Subject – Hindi
पूर्णांक : 80                                  
समय : 2 घण्टे
नोट – सभी प्रश्न अनिवार्य हैं

 

परीक्षार्थी का नाम –
दिनांक –
निरीक्षक के हस्ताक्षर –
प्राप्त अंक –

 

1. निम्नलिखित प्रश्नों के उचित विकल्प चुनकर लिखिए-

(क) बचपन के वस्त्रों में से कौन-सा वस्त्र लेखिका को अब तक याद है ?

(A) निकर                                 (B) गरारा

(C) फ्रॉक                                  (D) स्कर्ट

 

(ख) किसके घर चिड़िया ने अण्डे दिए थे ?

(A) केशव                                  (B) गोपाल
(C) गोविन्द                                (D) कृष्ण

 

(ग) आदमी ने जबसे लिखना शुरू किया तब से क्या शुरू हुआ ?          

(A) इतिहास                                (B) भूगोल

(C) गणित                                 (D) हिन्दी

 

 

(घ) मेहनत किसकी रेखा है ?

(A) किस्मत की                             (B) ग़रीबी की

(C) अमीरी की                              (D) बदकिस्मती की

 

 

(ङ) ‘हेलन केलर’ किस कारण विकलांग थी ?          

(A) वह देख नहीं सकती थी                (B) वह चल नहीं सकती थी

(C) वह सुन नहीं सकती थी                 (D) उसके हाथ नहीं थे

 

(च) नागराजन के मामा ने टिकट-अलबम कहाँ से भेजा था ?

(A) दिल्ली से                               (B) सिंगापुर से

(C) अमरीका से                             (D) आगरा से

 

(छ) चिड़िया ने कहाँ अण्डे दिए थे ?

(A) कार्निस पर                            (B) छत पर

(C) पेड़ पर                                 (D) पंखे पर

 

(ज) ‘जो देखकर भी नहीं देखते’ निबन्ध की लेखिका कौन है ?

(A) हेलन                                   (B) हेलेन टेलर

(C) हेलेन केलर                            (D) हेलेन कूलर

 

(झ) ‘संसार पुस्तक है’ के लेखक कौन हैं ?

(A) पंडित जवाहरलाल नेहरू                 (B) प्रेम चंद

(C) सुमित्रानंदन पन्त                        (D) भवानीप्रसाद

 

(ञ) राजप्पा कि अलबम किसने चुराई थी ?

(A) नागराजन ने                            (B) गोलू ने

(C) कमला ने                               (D) किसी ने नहीं

[अंक – 10]

2. निम्नलिखित काव्यांश की सप्रसंग व्याख्या कीजिए-

कानपूर के नाना की, मुँहबोली बहन छबीली थी,
लक्ष्मीबाई नाम, पिता की वह संतान अकेली थी,
नाना के सँग पढ़ती थी वह, नाना के सँग खेली थी,
बरछी ढाल, कृपाण, कटारी उसकी यही सहेली थी।

वीर शिवाजी की गाथाएँ

उसकी याद ज़बानी थीं।
बुंदेले हरबोलों के मुँह

हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो

झाँसी वाली रानी थी।।

प्रसंग ———————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————-

व्याख्या ——————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————-

[अंक-10]

3. निम्नलिखित गद्यांशों में से किसी एक की सप्रसंग व्याख्या कीजिए-

            मुझे मालूम है कि इस छोटे-छोटे खतों में बहुत थोड़ी-सी बातें ही बतला सकता हूँ। लेकिन मुझे आशा है कि इन थोड़ी-सी बातों को भी तुम शौक से पढ़ोगी और समझोगी कि दुनिया एक है और दूसरे लोग जो इसमें आबाद हैं हमारे भाई-बहन हैं। जब तुम बड़ी हो जाओगी तो तुम दुनिया और उसके आदमियों का हाल मोटी-मोटी किताबों में पढ़ोगी। उसमें तुम्हें जितना आनन्द मिलेगा, उतना किसी कहानी या उपन्यास में भी न मिला होगा।

अथवा

क्या यह संभव है कि भला कोई जंगल में घंटा भर घूमे और फिर भी कोई विशेष चीज न देखे? मुझे -जिसे कुछ भी दिखाई नहीं देता, को भी सैकड़ों रोचक चीजें मिल जाती हैं, जिन्हें मैं छूकर पहचान लेती हूँ। मैं भोज-पत्र के पेड़ की चिकनी छाल और चीड़ की खुरदरी छाल को स्पर्श से पहचान लेती हूँ। वसंत के दौरान मैं टहनियों में नयी कलियाँ खोजती हूँ। मुझे फूलों की पंखुड़ियों की मखमली सतह छूने और उनकी घुमावदार बनावट महसूस करने में अपार आनंद मिलता है। इस दौरान मुझे प्रकृति के जादू का कुछ अहसास होता है।

प्रसंग ———————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————-

व्याख्या —————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————–

[अंक-8]

4. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर 30 से 40 शब्दों में दीजिए-

(क) ‘तुम्हें बताऊंगी कि हमारे समय और तुम्हारे समय में कितनी दूरी हो चुकी है।‘ यह कहकर लेखिका क्या-क्या बताती है ?

—————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————[3]

 

(ख) झांसी की रानी की कोई तीन विशेषताएँ लिखो

—————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————[3]

 

(ग) ‘कुछ ख़ास तो नहीं’ हेलेन केलर कि मित्र ने यह जवाब किस मौके पर दिया और यह सुनकर हेलेन को आश्चर्य क्यों हुआ ?

—————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————[3]

 

(च) नागराजन ने अलबम के मुख्य पृष्ठ पर क्या लिखा और क्यों ? इसका दूसरे लड़के-लड़कियों पर क्या असर हुआ ?

————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————–[3]

 [अंक-12]

5. अवतरण को पढ़कर नीचे लिखे प्रश्नों के उत्तर दीजिए-

रोटी का टुकड़ा

रामू और श्यामू जुड़वाँ भाई थे। वे जुड़वाँ तो थे, पर एक-दूसरे से बिलकुल अलग थे- स्वभाव में भी शरीर की बनावट में भी। रामू लंबे कद का और दुबला-पतला था। रामू दूसरों के साथ जल्दी घुल मिल जाता था और दूसरों की मदद भी करता था, परन्तु श्यामू कंजूस था और किसी से खुलकर बात नहीं करता था। वे कभी एक साथ नहीं रह पाते थे और आपस में अकसर लड़ते-झगड़ते रहते थे।

एक दिन वे दूर शहर की यात्रा पर निकले। वे एक जंगल से होकर गुजर रहे थे। उनकी माँ ने रास्ते के लिए खाना बनाकर दिया था। रास्ते में चलते हुए आपस में लड़ते-झगड़ते वे बरगद के पेड़ के नीचे पहुँचे। पेड़ के पास एक ही सरोवर था। गरमी का महीना था और भरी दुपहरी का समय था। दोनों भाइयों को जोर की भूख लगी थी और वे प्यासे भी थे। वे बरगद के नीचे बैठकर खना खाने के लिए तैयार हो गए।

वहाँ कुछ और राहगीर भी बैठे थे। कुछ खाना खा रहे थे तो कुछ आराम करे रहे थे। रामू और श्यामू ने भी सरोवर के पानी से हाथ-मुँह धोकर अपना खाने का डिब्बा खोल दिया।

रामू के पास तीन रोटियाँ थीं और श्यामू के पास दो। यह देखकर श्यामू को अपनी माँ पर बहुत गुस्सा आया। माँ ने तो शायद रामू का शरीर भारी होने के कारण उसे ज्यादा और श्यामू को कम रोटियाँ दी होंगी; लेकिन श्यामू यह बात नहीं समझ सकता था। तभी एक और राहगीर वहाँ आया और बोला, ‘‘भाई, मैं आप दोनों को भोजन के समय परेशान करने के लिए क्षमा चाहता हूँ; लेकिन मैं बहुत भूखा हूँ और रास्ता भूल गया हूँ। मेरे पास पैसे तो हैं, लेकिन यहाँ आस-पास कोई होटल या ढाबा वगैरह नहीं है। अगर आप लोग अपने खाने में से थोड़ा सा मुझे दे देंगे तो मैं उसके दाम दूँगा।

दोनों भाई तैयार हो गए। रामू इसलिए तैयार हुआ कि उसे पैसा मिल रहा था और श्यामू इसलिए तैयार हुआ कि वह अपनी रोटियाँ बाँटकर खाना चाहता था। इस प्रकार तीनों ने आपस में रोटियों का बँटवारा करके एक साथ बैठकर खाया। जाने से पहले राहगीर ने चाँदी के पाँच सिक्के उनके सामने रखते हुए कहा, ‘‘भगवान् आप दोनों का भला करे। मेरा पेट भर गया, अब मैं संतुष्ट हूँ।’’

खाना तो किसी को भी खुश और संतुष्ट कर सकता है। लालची-से-लालची आदमी भी कभी-न-कभी संतुष्ट हो जाता है।

रामू ने चाँदी के पाँच सिक्कों में से दो श्यामू को दिए और शेष तीन अपने पास रख लिये। यह देखकर श्यामू आगबबूला हो गया। वह कहने लगा, ‘‘राहगीर को हम दोनों ने ही खाना दिया था, तो दोनों को बराबर पैसे मिलने चाहिए। मुझे आधा सिक्का और दो।’’

इस पर रामू ने मुस्कराते हुए कहा, ‘‘मैंने सोचा कि मेरे पास तीन रोटियाँ थीं, इसलिये मुझे तीन सिक्के मिलने चाहिए और तुम्हारे पास दो रोटियाँ थीं, इसलिए तुम्हें दो सिक्के मिलने चाहिए। लेकिन तुम अगर खुश नहीं हो तो ठीक है, मैं तुम्हें आधा सिक्का और दूँगा; लेकिन मेरे पास अभी खुला नहीं है।’’

उधर, श्यामू जिद करने लगा कि उसे सिक्का अभी और यहीं चाहिए। रामू को कुछ नहीं सूझा तो वह एक साथी राहगीर के पास पहुँचा, जो पास में ही बैठा पहले से उनकी बातें सुन रहा था।

रामू ने उससे पैसे खुले करने के लिए अनुरोध किया। इस पर राहगीर मुस्कराकर कहने लगा, ‘‘मेरा ख्याल है कि यह न्याय नहीं है। तुम तीन सिक्के नहीं ले सकते। अगर तुम चाहों तो मैं तुम लोगों का ठीक-ठीक बँटवारा कर सकता हूँ।’’

श्यामू बहुत खुश था। उसने कहा, ‘‘ठीक है, आप न्याय करें। हम वैसा ही करेंगे जैसा आप कहेंगे।’’

इस पर राहगीर बोला, ‘‘मेरी बात ध्यान से सुनो। तुम दोनों के पास कुल मिलाकर पाँच रोटियाँ थीं और तीन लोगों ने बराबर-बराबर रोटियाँ ली; इसका अर्थ हुआ कि हर रोटी के तीन बराबर हिस्से किए गए। इस प्रकार कुल पंद्रह हिस्से हुए। अब, रोटियों के पंद्रह टुकड़े तीन आदमियों ने मिलकर खाए। श्यामू के पास छह टुकड़े थे और उसने पाँच टुकड़े खाए। इस प्रकार उस अतिथि राहगीर को रामू ने चार टुकड़े खिलाए और श्यामू ने एक। अत: पाँच सिक्कों में रामू को चार और श्यामू को एक सिक्का मिलना चाहिए।’’

इस फैसले से श्यामू बहुत शर्मिन्दा हुआ। उसने एक सिक्का अपने भाई को वापस दे दिया।

  • रामू और श्यामू में क्या अंतर थे ?

उत्तर—————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————-[2]

 

  • सरोवर के पास दूसरे राहगीर क्या कर रहे थे ?

उत्तर—————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————-[2]

 

  • श्यामू को अपनी माँ पर गुस्सा क्यों आ रहा था ?

उत्तर—————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————-[2]

 

  • राहगीर ने रामू और श्यामू से क्या सहायता माँगी ?

उत्तर—————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————-[2]

 

  • रामू और श्यामू दोनों राहगीर की सहायता के लिए क्यों तैयार हो गए थे ? दोनों के कारण बताओ।

उत्तर—————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————-[2]

 

  • जाने से पहले राहगीर ने रामू और श्यामू को क्या दिया और क्या कहा ?

उत्तर—————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————-[2]

 

  • सिक्कों के बटवारे को लेकर श्यामू आगबबूला (नाराज) क्यों हो गया ?

उत्तर—————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————-[2]

 

  • सिक्कों के विषय में रामू ने मुस्कराते हुए क्या कहा ?

उत्तर—————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————-[2]

 

  • जब रामू ने राहगीर से खुले पैसे मांगे तो राहगीर ने क्या कहा ?

उत्तर—————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————-[2]

 

  • राहगीर ने रामू और श्यामू का क्या फैसला करवाया ?

उत्तर—————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————-[2]

[अंक – 20]

6. कविता को पढ़कर नीचे लिखे प्रश्नों के उत्तर दीजिए-

साथी हाथ बढ़ाना

एक अकेला थक जाएगा, मिलकर बोझ उठाना।

साथी हाथ बढ़ाना।

हम मेहनत वालों ने जब भी, मिलकर कदम बढ़ाया

सागर ने रस्ता छोड़ा, परबत ने सीस झुकाया

फ़ौलादी हैं सीने अपने, फ़ौलादी हैं बाँहें

हम चाहें तो चट्टानों में पैदा कर दें राहें

साथी हाथ बढ़ाना।

मेहनत अपने लेख की रेखा, मेहनत से क्या डरना

कल गैरों की खातिर की, आज अपनी खातिर करना

अपना दुख भी एक है साथी, अपना सुख भी एक

अपनी मंजिल सच की मंजिल, अपना रस्ता नेक

साथी हाथ बढ़ाना।

एक से एक मिले तो कतरा, बन जाता है दरिया

एक से एक मिले तो जर्रा, बन जाता है सेहरा

एक से एक मिले तो राई, बन सकती है परबत

एक से एक मिले तो इंसाँ, बस में कर ले किस्मत

साथी हाथ बढ़ाना।

 

  • कविता का नाम लिखिए ?

उत्तर – ————————————————————————————————————————————————————————————————————-[1]

 

  • सागर ने कब-कब रास्ता छोड़ा ?

उत्तर – ————————————————————————————————————————————————————————————————————-[1]

 

  • मेहनत करने वालों के सीने कैसे होते हैं ?

उत्तर – ————————————————————————————————————————————————————————————————————-[1]

 

  • मेहनत करने वाले चट्टानों में क्या पैदा कर सकते हैं ?

उत्तर – ————————————————————————————————————————————————————————————————————[1]

 

  • आज हमें किसके लिए मेहनत करनी है ?

उत्तर – ————————————————————————————————————————————————————————————————————-[1]

 

  • हमारी मंजिल कैसी हैं ?

उत्तर – ————————————————————————————————————————————————————————————————————-[1]

 

  • हमारा रास्ता कैसा है ?

उत्तर – ————————————————————————————————————————————————————————————————————-[1]

 

  • दरिया कैसे बन जाता है ?

उत्तर – ————————————————————————————————————————————————————————————————————-[1]

 

  • राई से क्या बन सकती है ?

उत्तर – ————————————————————————————————————————————————————————————————————-[1]

 

  • इस कविता से हमें क्या शिक्षा मिलती है ?

उत्तर – ————————————————————————————————————————————————————————————————————-[1]

 [अंक – 10]

7. निम्नलिखित शब्दों में उपयुक्त उपसर्ग पहचानकर लिखो –

 

  1. प्रत्येक ———————–
  1. अत्यधिक ———————–
  2. अधिनायक ———————–
  3. अनुसार ———————–
  4. अपमान ———————–
  5. आजीवन ———————–
  6. उपदेश ———————–
  7. निवारण ———————–
  8. प्रख्यात ———————–
  9. विदेश ———————–
  10. कुचाल ———————–
  11. भरपेट ———————–
  12. अधपका ———————–
  13. बिनबादल ———————–
  14. खुशनसीब ———————–
  15. गैरक़ानूनी ———————–
  16. बेईमान ———————–
  17. हरदिन ———————–
  18. सब-इंस्पेक्टर ———————–
  19. चीफ़-मिनिस्टर ———————–                                                     [अंक – 10]

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *