Hindi Worksheet for Class 8 – 76

प्रश्न – कविता को पढ़कर प्रश्नों के उत्तर दीजिए –

हम दीवानों की क्या हस्ती,

हैं आज यहाँ, कल वहाँ चले,

मस्ती का आलम साथ चला,

हम धूल उड़ाते जहाँ चले।

 

आए बनकर उल्लास अभी,

आँसू बनकर बह चले अभी,

सब कहते ही रह गए, अरे,

तुम कैसे आए, कहाँ चले?

किस ओर चले? यह मत पूछो,

चलना है, बस इसलिए चले,

जग से उसका कुछ लिए चले,

जग को अपना कुछ दिए चले,

दो बात कही, दो बात सुनी,
कुछ हँसे और फिर कुछ रोए।

छककर सुख-दुख के घूँटों को,

हम एक भाव से पिए चले।

 

हम भिखमंगों की दुनिया में,

स्वच्छंद लुटाकर प्यार चले,

हम एक निसानी-सी उर पर,

ले असफलता का भार चले।

अब अपना और पराया क्या?

आबाद  रहें  रुकनेवाले!

हम स्वयं बँधे थे और स्वयं

हम अपने बंधन तोड़ चले।

 

(क) कविता का नाम बताओ

उत्तर – ———————————————————————————————————————————————————————————–

 

(ख) दीवानों की कोई पहचान क्यों है ?

उत्तर – ———————————————————————————————————————————————————————————–

 

(ग) दीवाने अपने साथ कैसा माहौल लेकर चलते हैं ?

उत्तर – ———————————————————————————————————————————————————————————–

 

(घ) दीवानों के विषय में सब क्या कहते रह गए ?

उत्तर – ———————————————————————————————————————————————————————————–

 

(ङ) दीवाने किस बात को पूछने से मना करते हैं ?

उत्तर – ———————————————————————————————————————————————————————————–

 

(च) दीवाने किसे एक भाव से सहते हैं ?

उत्तर – ———————————————————————————————————————————————————————————–

 

(छ) दीवाने भिखमंगों की दुनिया में क्या लुटाकर जा रहे हैं ?

उत्तर – ———————————————————————————————————————————————————————————–

 

(ज) दीवाने अपने दिल पर क्या भार लेकर जा रहे हैं ?

उत्तर – ———————————————————————————————————————————————————————————–

 

(झ)   अब अपना और पराया क्या?

आबाद  रहें  रुकनेवाले!

हम स्वयं बँधे थे और स्वयं

हम अपने बंधन तोड़ चले।

अवतरण का अर्थ अपने शब्दों में लिखिए –

उत्तर – ——————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————————–

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *