प्रणिधान का अर्थ

प्रणिधान का अर्थ

प्रणिधान का हिन्दी में अर्थ

प्रणिधान का अर्थ है – उपयोग, उपासना, व्यवहार, अर्पण, प्रयत्न, भक्ति आदि। प्रयोग के आधार पर ये शब्द भिन्न-भिन्न अर्थ प्रकट कर सकते हैं।

Pranidhaan ka arth

Pranidhaan ke arth kee baat karen toh hamaare paas kuchh shbd hain jo Pranidhaan ke arth se kafi milte julte hain, jaise Upayog, Upaasanaa, Vyavahaar, Arpan, Prayatn, Bhakti aadi. in shbdon ka Hindi roop dekhane ke lie aap Pranidhaan ka arth section dekh sakate hain.

प्रणिधान का मतलब

शब्दिक दृष्टी से अर्थ एवं मतलब में कोई भेद नहीं है। इस प्रकार हिन्दी के अर्थ में दिए गए शब्द ही प्रणिधान के मतलब के रूप में देखे जा सकते हैं। यहाँ ये शब्द एक बार फिर से दोहराए जा रहे हैं। शब्दों पर क्लिक करके आप इनका अर्थ भी जान सकते हैं। ये शब्द हैं उपयोग, उपासना, व्यवहार, अर्पण, प्रयत्न, भक्ति आदि।

Synonyms of Pranidhaan

Upayog, Upaasanaa, Vyavahaar, Arpan, Prayatn, Bhakti.

वर्णक्रमानुसार शब्दों की सूची 

,

,

,

,

,

,

,

,

क्षत्रज्ञश्र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *