समास : कार्य और भेद

प्रश्न 1 – समास किसे कहते हैं ?

Download as PDF and send your friends via WhatsApp. Share via Whatsapp

उत्तर – दो या दो से अधिक शब्दों से मिलकर बने हुए एक नवीन एवं सार्थक शब्द को समास कहते हैं। जैसे – ‘रसोई के लिए घर’ इसे हम ‘रसोईघर’ भी कह सकते हैं।

प्रश्न 2 – समास विग्रह किसे कहते हैं ?

उत्तर – सामासिक शब्दों के बीच के संबंध को स्पष्ट करना समास-विग्रह कहलाता है। जैसे-राजपुत्र-राजा का पुत्र।

प्रश्न 3 – पद (स्थान) किसे कहते हैं ?

उत्तर – जब शब्द वाक्य में प्रयोग होकर अपना एक विशेष स्थान प्राप्त कर लेता है तब वह शब्द पद कहलाता है।

प्रश्न 4 – पूर्वपद और उत्तरपद क्या हैं ?

उत्तर – समास में दो पद (शब्द) होते हैं। पहले पद को पूर्वपद और दूसरे पद को उत्तरपद कहते हैं। जैसे-गंगाजल। इसमें गंगा पूर्वपद और जल उत्तरपद है।

प्रश्न 5 – संधि और समास में क्या अंतर है ?

उत्तर – संधि वर्णों में होती है। इसमें विभक्ति या शब्द का लोप नहीं होता है। जैसे – देव+आलय = देवालय। समास दो पदों में होता है। समास होने पर विभक्ति या शब्दों का लोप भी हो जाता है। जैसे – माता-पिता = माता और पिता।

प्रश्न 6 – समास कितने प्रकार के होते हैं ?

उत्तर – समास मुख्य रूप से चार प्रकार के होते हैं-

  1. अव्ययीभाव समास
  2. तत्पुरुष समास
  3. द्वन्द्व समास
  4. बहुव्रीहि समास

प्रश्न 7 – अव्ययीभाव समास किसे कहते हैं ?

उत्तर – जिस समास का पहला पद प्रधान हो और वह अव्यय हो उसे अव्ययीभाव समास कहते हैं। जैसे – यथामति (मति के अनुसार),

यथासामर्थ्य – सामर्थ्य के अनुसार

यथाशक्ति – शक्ति के अनुसार

यथाविधि- विधि के अनुसार

यथाक्रम – क्रम के अनुसार

प्रश्न 8 – तत्पुरुष समास किसे कहते हैं ?

उत्तर – जिस समास का उत्तरपद प्रधान हो और पूर्वपद गौण हो उसे तत्पुरुष समास कहते हैं। जैसे – तुलसीदासकृत = तुलसी द्वारा कृत (रचित)

गिरहकट – गिरह को काटने वाला

मनचाहा – मन से चाहा

रसोईघर – रसोई के लिए घर

देशनिकाला – देश से निकाला

गंगाजल – गंगा का जल

नगरवास – नगर में वास

प्रश्न 9 – द्वन्द्व समास किसे कहते हैं ?

उत्तर – जिस समास के दोनों पद प्रधान होते हैं तथा विग्रह करने पर ‘और’, अथवा, ‘या’, एवं लगता है, वह द्वंद्व समास कहलाता है। जैसे-पाप-पुण्य – पाप और पुण्य

सीता-राम – सीता और राम

ऊँच-नीच – ऊँच और नीच

अन्न-जल – अन्न और जल

खरा-खोटा – खरा और खोटा

राधा-कृष्ण – राधा और कृष्ण

प्रश्न 10 – बहुव्रीहि समास किसे कहते हैं ?

उत्तर – जिस समास के दोनों पदों के अतिरिक्त कोई अन्य अर्थ प्रधान हो उसे बहुव्रीहि समास कहते हैं। जैसे – दशानन – दश है आनन (मुख) जिसके अर्थात् रावण

नीलकंठ – नीला है कंठ जिसका अर्थात् शिव

सुलोचना – सुंदर है लोचन जिसके अर्थात् मेघनाद की पत्नी

पीतांबर – पीले है अम्बर (वस्त्र) जिसके अर्थात् श्रीकृष्ण

लंबोदर – लंबा है उदर (पेट) जिसका अर्थात् गणेशजी

दुरात्मा – बुरी आत्मा वाला (कोई दुष्ट)

श्वेतांबर – श्वेत है जिसके अंबर (वस्त्र) अर्थात् सरस्वती जी

तत्पुरुष समास का एक अन्य भेद भी है जिसे द्विगु समास कहते हैं।

प्रश्न 11 – द्विगु समास किसे कहते हैं ?

उत्तर – जिस समास का पूर्वपद संख्यावाचक विशेषण हो उसे द्विगु समास कहते हैं। इससे समूह अथवा समाहार का बोध होता है। जैसे –

नवग्रह – नौ ग्रहों का मसूह

त्रिलोक – तीनों लोकों का समाहार

नवरात्र – नौ रात्रियों का समूह

अठन्नी – आठ आनों का समूह

दोपहर – दो पहरों का समाहार

चौमासा – चार मासों का समूह

शताब्दी – सौ अब्दो (वर्षों) का समूह

अन्य उदहारण –

आजन्म

आजीवन

आमरण

कानोंकान

खूबसूरत

घर-घर

धडाधड

निडर

निर्विवाद

निस्संदेह

प्रतिदिन

प्रतिवर्ष

प्रत्येक

बाकायदा

बेखटके

बेशक

भरपेट

भुखमरा

यथाकाम

यथाक्रम

यथानियम

यथाविधि

यथाशक्ति

यथाशीघ्र

यथासाध्य

यथासामर्थ्य

रातों-रात

साफ-साफ

हररोज़

हाथोंहाथ

समास के लिए वर्कशीट

भाषा

संज्ञा

सर्वनाम

लिंग

वचन

विशेषण

विलोम शब्द

विराम चिह्न

वाक्य रचना

कारक

मुहावरे

उपसर्ग

समास

हिंदी व्याकरण वर्कशीट

Download as PDF and send your friends via WhatsApp. Share via Whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *