स्तोत्र का अर्थ

स्तोत्र का अर्थ

स्तोत्र का अर्थ है – वंदना, स्तुति, गुणकथन, ऋचा, स्तवन, अभिवंदना, स्तव, स्तुति, प्रशंसा, बड़ाई, गान, गीतक, प्रशंसा, राशि, स्तव, गुलदस्ता, झुंड, बंदीजन, स्तवक, समूह, ढेर, साम-विशेष, उक्ति, सूक्ति, कथन, उक्थ, प्राण।

ध्यान दें – प्रत्येक शब्द की महत्ता विषय के अनुसार होती है। एक ही शब्द के समानार्थी शब्द समय और विषय के अनुसार अलग-अलग अर्थ प्रकट कर सकते हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More