अंग-अंग मुसकाना

अंग-अंग मुसकाना

अंग-अंग मुसकाना

अर्थ – बहुत प्रसन्न होना

 

वाक्य में प्रयोग करते समय ‘अंग-अंग मुसकाना’ मुहावरा अनेक रूपों में प्रयोग होगा है।

जैसे – अंग-अंग मुसकाने, अंग-अंग मुस्काना, अंग-अंग मुसका, अंग-अंग मुसकाएगा

 

अंग-अंग मुसकाना मुहावरे का वाक्यों में प्रयोग –

  1. क्रिकेट मैच जीतने के बाद मेरा अंग-अंग मुसकाने लगा।
  2. जब मोहन परीक्षा में प्रथम आया तो उसका अंग-अंग मुसकाने गला।
  3. जीतने के बाद हर किसी का अंग-अंग मुसकाने लगता है।
  4. उसे इस बात कि कितनी खुशी है ये तो उसे देखते ही बनता था, उसका अंग-अंग मुसका रहा था।
  5. तुम देखते जाओ इस जीत के बाद तुम्हारा अंग-अंग मुसकाएगा।
  6. अरे वह तुम्हें बहकाने के लिए झूठ बोल रहा है उसे तो इस काम की बहुत खुशी हुई है। तुमने देखा नहीं कैसे उसका अंग-अंग मुसका रहा था।
  7. जरूरी नहीं है कि हर जीत के बाद अंग-अंग मुस्काने लगे। यह जीत शायद उसके लिए कुछ अधिक महत्त्व नहीं रखती। जब बड़ी जीत होगी तो देखना उसका अंग-अंग कैसे मुसकाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *