मुहावरे

प्रश्न – मुहावरा किसे कहते हैं ?

उत्तर – वह वाक्य या वाक्यांश जो अपना साधारण अर्थ छोड़कर किसी विशेष अर्थ को प्रकट करता है, उसे मुहावरा कहते हैं। जैसे –

  1. अंग छूटा

अर्थ – कसम खाना

  1. अंग-अंग मुसकाना

अर्थ – बहुत खुश होना

  1. अक्ल चकराना

अर्थ – कुछ समझ में न आना

  1. अक्ल के पीछे लठ लिए फिरना

अर्थ – समझाने पर भी न मानना

प्रश्न – लोकोक्ति किसे कहते हैं ?

उत्तर – समाज में प्रचलित ऐसी उक्ति/बात/विचार जो किसी विशेष अनुभव को व्यक्त करती है, उसे लोकोक्ति कहते हैं। इसे कहावत भी कहते हैं। जैसे –

  1. अब पछताए होत क्या, जब चिड़ियाँ चुग गई खेत

अर्थ – समय निकल जाने पर पछताने से कोई लाभ नहीं होता

  1. दोनों हाथों में लड्डू

अर्थ – दोनों ओर से लाभ

प्रश्न – मुहावरा और लोकोक्ति में क्या अंतर है ?

उत्तर – मुहावरा वाक्यांश है, इसका अर्थ प्रकट करने के लिए इसे वाक्य में प्रयोग किया जाना अनिवार्य है। वाक्य प्रयोग के अभाव में इसका अर्थ प्रकट नहीं हो सकता।

लोकोक्ति अपने आप में एक संपूर्ण वाक्य है, इसका प्रयोग स्वतंत्र रूप से भी किया जा सकता है और वाक्य के साथ भी।

कुछ अन्य मुहावरे वाक्य प्रयोग के साथ –

अँधा क्या चाहे दो आँखें

अँधा क्या जाने बसंत की बहार

अँधा बन जाना

अँधा बनाना

अंक देना

अंग-अंग ढीला करना

अंग छूना

अंग न लगना

अंग-अंग टूटना

अंग-अंग ढीला होना

अंग-अंग मुसकाना

अंगारे उगलना

अंगारे बरसना

अंगारे सिर पर धरना

अंगूठा चूमना

अंगूठा दिखाना

अंजर पंजर ढीला करना

अंडे होंगे तो बच्चे बहुत होंगे

अंत करना

अंत पाना

अंत बुरे का बुरा

अंत समय

अंतड़ियां टटोलना

अंतड़ियों में बल पड़ना

अंधा पीसे कुत्ता खाए

अंधा बांटे रेवड़ी फिर फिर अपने को दे

अंधाधुंध उड़ाना

अंधे की लकड़ी

अंधे के हाथ बटेर लगना

अंधे को अँधेरे में बड़ी दूर की सूझी

अंधेर मचाना

अंगुलियां उठाना

अकेला चना भाड़ नहीं फोड़ता

अक्ल का दुश्मन

अक्ल का पुतला

अक्ल के घोड़े दौड़ाना

अक्ल के पीछे लठ लिए फिरना

अक्ल चकराना

अक्ल चरने जाना

अक्ल पर पत्थर पड़ना

अक्ल पर पर्दा पड़ना

अक्ल बड़ी की भैंस

अक्ल मारी जाना

अकड़ दिखाना

अखाडा ज़माना

अखाड़े में उतरना

अगर मगर करना

अचरा पसारना

अच्छे दिन देखना

आखाड़े से भागना

आग में घी डालना

अधजल गगरी छलकत जाय

अड्डा जमाना

अन्न जल उठ जाना

अपना उल्लू सीधा करना

अपना खाना, अपना कमाना

अपना घर दूर से सूझता है

अपना घर समझाना

अपना वही जो आवे काम

अपना सा मुंह लेकर रह जाना

अपना ही राग अलापना

अपनी कब्र आप खोदना

अपनी गली में कुत्ता भी शेर होता है

अपनी पगड़ी अपने हाथ

अपनी ही गाए जाना

अपनी ही पड़ी रहना

अपने पैरों पर आप कुल्हाड़ी मारना

अपने पैरों पर खड़ा होना

अपने बल पर खड़े होना

अपने मुंह मियाँ मिट्ठू बनाना

अब पछताये होत क्या जब चिड़िया चुग गई खेत

अभी तो तुम्हारे दूध के दांत भी नहीं टूटे

अमर हो जाना

अरण्य रोदन

अरमान निकालना

अल खामोश नीम राज़ी

अस्सी आदम चौरासी का खर्च

अस्सी हज़ार फिरना

आँख चुराना

आँख तरसना

आँख दिखाना

आँख फेर लेना

आँख बिछाना

आँख मारना

आँखों का तारा

आँखों में गिरना

आँखों में धूल झोंकना

आँख आना

आँख उठाकर भी न देखना

आँख उठाना

आँख ऊँची होना

आँख ऊंची न होना

आँख का तिल खो जाना

आँख कान खोलकर चलना

आँख के अंधे, नाम नयनसुख

आँख खुल जाना

आँखें फाड़कर देखना

आँख ठंडी होना

आँख ठहरना

आँख तरसना

आँख न ठहरना

आँख तले न लाना

आँख न लगाना

आँख फोड़ना

आँख भर रोना

आँख भर आना

आँख मटकाना

आँख मुंदना

आँख मूंदना

आँख में शील न होना

आँख रखना

आँख से दूर, दिल से दूर

आँखें उठना

आँखें चढ़ना

ऑंखें चार होना

आँखें जमीन में लग जाना

आँखें दिखाना

आँखें निकालना

आँखें पथरा जाना

आँखें फटना

आँखें फेरना

आँखें बिछाना

आँखें बैठना

आँखों का पानी गिर जाना

आँखों की पट्टी खुलना

आँखों के सामने अँधेरा छा जाना

आँखों के सामने नाचना

आँखों पर पट्टी बाँधना

आँखों पर परदा पड़ना

आँखों में काँटा होना

आँखों में खटकना

आँखों में खून उतर आना

आँखों में चर्बी छा जाना

आँखों में चुभना

आँखों में जगह देना

आँखों में जगह मिलना

आँखों में पालना

आँखों में फिरना

आँखों में समा जाना

आँखों से काजल चुराना

आँखों में गिरना

आँच अधिक खा जाना

आँच न आने देना

आँसुओं की झड़ी लगना

आँसू पीकर रह जाना

आँसू पीना

आँसू पोछना

आँसू बहाना

आकाश के तारे तोड़ना

आकाश गंगा में नहाना

आकाश पाताल एक करना

आकाश में छेद करना

आकाश फट पड़ना

आकाश से बातें करना

आग दिखाना

आग पड़ना

आग पानी से गुजरना

आग बबूला होना

आग में इंधन डालना

आग में कूदना

आग में झोंक देना

आग में पानी डालना

आग लगना

आग लगने पर कुआँ खोदना

आग लगाकर तमाशा देखना

आग लगाकर पानी को दौड़ना

आग लगाना

आगा पीछा करना

आँट पड़ना

आँट रखना

आजकल के फेर में पड़ना

आजकल करना

आटे दाल का भाव मालूम होना

आटे के साथ घुन का भी पिस जाना

आठ अठाराह कर देना

आठों पहर शूली पर रहना

आड़े समय काम आना

आड़े हाथ लेना

आत्मा ठण्डी करना

आदमी बनना

आदमी बनाना

आदि अंत सोचना

आन निभाना

आना कानी करना

आप आप करना

आप बीती कहना

आप भला तो जग भला

आपस में गिरह पड़ना

आपा खोना

आपा न सम्भलना

आपे में आना

आपे में न रहना

आपे से बाहर होना

आब देना

आ बला गले लग

आम के आम गुठली के दाम

आम खाने से काम या पेड़ गिनने से काम

आए-आए करना

आयी को रोकना

आरती उतारना

आव देखना न ताव देखना

आव भगत करना

आव भगत में स्वाहा करना

आशाओं पर पानी फिरना

आसमान टूटना

आसमान दिखना

आसमान देखना

आसमान पर उड़ना

आसमान पर चढ़ाना

आसमान पर होना

आसमान सिर पर उठाना

आसमान से टक्कर खाना

आस्तीन का साँप

आस्तीन चढ़ना

आस्तीन में साँप पालना

आह करके रह जाना

आह भरना

इज्जत गवाना

इज्जत दो कोड़ी की रह जाना

इज्जत बिगाड़ना

इधर-उधर कर देना

इधर-उधर की हांकना

इधर-उधर देखन

इधर-उधर देखने लगना

इधर-उधर करना

इधर-उधर लगाना

इधर का न उधर

इधर की उधर लगाना

इने-गिने

इस कान से सुनना उस कान से निकाल देना

ईंट की लेनी पत्थर की देनी

ईंट से ईंट बजाना

ईंट का घर मिट्टी कर देना

ईद का चाँद

ईश्वर को प्यारा होना

उखड़ जाना

उखड़ी बातें करना

उखली में सिर दिया तो मूसल का क्या डर

उखाड़ देना

उगल देना

उछल कर चलना

उठ जाना

उछल पड़ना

उड़ती खबर पाना

उड़ती चिड़िया पहचानना

उड़ा देना

उड़ा ले जाना

उड़ा लेना

उतर जाना

उतार चढाव देखन

उतारू होना

उतावला होना

उथल-पुथल होना

उथल-पुथल करना

उधेड़ डालना

उधेड़बुन में लगना

उन्नीस बीस का फर्क

उफ न करना

उबल पड़ना

उभार पर होना

उमंगें मिटना

उलझ पड़ना

उलझन में डालना

उलझन में पड़ना

उलट फेर होना

उल्टी गंगा बहना

उल्टी पट्टी पढ़ाना

उल्टी साँस लेना

उलटे पाँव जाना

उल्लू बनना

उल्लू बनाना

उल्लू बोलना

ऊँच-नीच का भेद न रखना

ऊँचा बोल बोलना

ऊँचा सुनना

ऊँची जगह पाना

ऊँची दुकान फीका पकवान

ऊँट किस करवट बैठता है

ऊँट के मुंह में जीरा

उधम मचाना

उपर पड़ना

उधो का लेना न माधो का देना

एड़ी चोटी का जोर लगाना

एक आनार सौ बीमार

एक आँख से देखना

एक ईंट के लिए महल गिराना

एक-एक रग जानना

एक और एक ग्यारह

एक का एक खाए जाना

एक की दस सुनाना

एक के तीन बनाना

एक चुप हज़ार हो हरावे

एक टक लगाना

एक टांग से फिरना

एक तो चोरी दूसरा सीनाजोरी

एक थैली के चट्टे बट्टे

एक न एक रोग लगे रहना

एक न चलना

एक न सुनना

एक पंथ दो काज

एक पर से सौ कौए बनाना

एक म्यान में दो तलवारें नहीं रहती

एक लकड़ी से सबको हांकना

एक सूत्र में बाँधना

एक हाथ से ताली नहीं बजती

एक ही साँचे में ढालना

एक हो जाना

एक होना

ऐंठ जाना

ऐंठ दिखाना

ऐंठ लेना

ऐसा-वैसा समझना

ऐसे जीने से तो मरना अच्छा

ओखली में सिर देना

ओर छोर न मिलना

ओले पड़ना

ओस चाटे प्यास नहीं जाती

औंधें मुंह गिरना

औकात पर आना

औकात पर रहना

औकात बसर होना

और का और हो जाना

कंघी चोटी से फुरसत न मिलना

कंगाली में आटा गीला

कंचन बरसना

कंजूस मक्खी चूस

कंटक निकलना

कंठस्थ करना

कन्धा डालना

कन्धा लगाना

कचूमर निकालना

कच्चा चिट्ठा खोलना

कच्चा दिल करना

कच्चा होना

कटे पर नमक छिडकना

कठपुतली बनना

कड़क कर बोलना

कढ़ाई से गिरा चूल्हे में पड़ा

कतराकर जाना

कदम बढ़ाना

कपड़े उतरना

कपाट खुलना

कपास तोलना

कब्र में पैर लटकाना

कमर कसना

कमर खोलना

कमर टूटना

कमर सीधी करना

कमान से निकला तीर और मुंह से निकली बात वापस नहीं आती

कर सेवा पा मेवा

करते धरते न बनना

करनी ख़ाक की बातें लाख की

कर्म फूटना

करवट बदलना

कलई खुलना

कलई खोलना

कलम तोड़ना

कलेजा खाना

कलेजा छलनी होना

कलेजा ठण्डा होना

कलेजा तर होना

कलेजा थामकर रह जाना

कलेजा थामना

कलेजा निकालकर धर देना

कलेजा धक-धक होना

कलेजा पसीजना

कलेजा बढ़ना

कलेजा फटना

कलेजा मुंह में आना

कलेजा रखना

कलेजा मसलना

कलेजे पर हाथ रखना

कलेजे में छेद करना

कलेजे से लगाकर रखना

कलेजे का टुकड़ा

कलेजे से लगाना

कसर निकालना

कसौटी पर कसना

कहने से करना भला

कहा सुनी होना

कहाँ राजा भोज कहाँ गंगू तेली

कहीं का न छोड़ना

कहे से धोबी गधे पर नहीं चढ़ता

काँटा सा खटकना

काँटा बोना

काँटे से काँटा निकालना

काँटों पर पाँव रखना

काँटों पर लोटना

काँटों की शैया पर सोना

काँटों में हाथ पड़ना

कागज़ काले करना

कागज़ी घोड़े दौड़ाना

काट खाने दौड़ना

काटो तो बदन में खून नहीं

काठ की हाँडी आँच पर बार बार नहीं चढ़ती

कान काटना

कान के कीड़े मर जाना

कान खाना

कान खड़े होना

कान तक पहुँचना

कान देना

कान पकड़ना

कान पड़ा शब्द सुनाई न देना

कान पर जूं न रेंगना

कान भरना

कान में डाल देना

कान में पड़ना

कान में फूकना

काना फूसी करना

काने को काना कहना

कानों कान खबर न होना

कानों पर हाथ धरना

कानों में तेल डालना

काफूर होना

काबुल में क्या गधे नहीं होते

काम कर जाना

काम का ना काज का दुश्मन अनाज का

काम चलाऊ

काम निकालना

कायं-कायं लगाए रखना

काया पलट होना

काल चक्कर में पड़ना

काला अक्षर भैंस बराबर

कालिख लगना

किताबी कीड़ा

किनारा करना

किनारे लगना

किनारे लगाना

किनारे हो जाना

किया कराया बेकार होना

किस खेत की मूली

किस चिड़िया का नाम

किस्मत खुलना

किस्मत फूटना

किस्मत लड़ना

किसी गिनती में न होना

कुत्ते की मौत मरना

कुत्ता भी दुम हिलाकर बैठता है

कुत्ते की दुम बारह वर्ष नली में रखी तब भी टेड़ी की टेड़ी

कुत्ते की नींद सोना

कुत्ते को देशी घी हजम नहीं होता

कुम्हार अपने घड़े को कच्चा नहीं कहता

कुलबुला उठाना

कूच करना

कूट-कूट कर भरना

कोख उजड़ना

कोख की आँच

कोयले की दलादी में हाथ काले

कोरा जवाब देना

कोरी-कोरी सुनाना

कोसों दूर भागना

कोल्हू का बैल

कौड़ियों के मोल लेना

कौआ चला हंस की चाल

कौवे बोलना

खटपट होना

खटाई में पड़ना

ख़बर लेना

ख्याली घोड़े दौड़ाना

ख्याली पुलाव पकाना

खरबूजे को देखकर खरबूजा रंग बदलता है

खलबली मचना

खाक उड़ाना

खाक छानना

खाक में मिलना

खाक में मिलाना

खाने को दौड़ना

खाल उधेड़ना

खिचड़ी पकाना

खिल उठना

खिलखिलाकर हँसना

खिसक जाना

खिसियानी बिल्ली खंबा नोचे

खिलाये का नाम नहीं रुलाए का नाम

खिंचातानी में पड़ना

खुदा-खुदा करके

खुले आम

खुले दिल

खून उबलना

खून का प्यासा

खून की नदी बहाना

खून के घूँट पीना

खून भरी आँखों से देखना

खून सफेद होना

खून सूखना

खून से हाथ रंगना

खेल बिगाड़ना

खोकर सीखना

खोदा पहाड़ निकली चुहिया

खोपड़ी खाना

खोद-खोद कर पूछना

गंगा नहा लेना

गठरी मारना

गड़े मुर्दे उखाड़ना

गधे चराना

गधे को बाप बनाना

गधे पर चढ़ाना

गधों को हलवा खिलाना

गप्प मारना

गम खाना

गया गुजरा जानना

गया वक्त फिर हाथ नहीं आता

गरम होना

गर्दन उठाना

गर्दन उठाने का मौका न मिलना

गर्दन काटना

गर्दन झुकना

गर्दन पर छूरी फेरना

गरीब की हाए बुरी होती है

गरीबी में मुंह छिपाना

गला काटना

गला घोटना

गला फसाना

गर्दन फँसना

गला काटना

गला घोंटना

गला छूटना

गला पकड़ना

गला फँसाना

गला फाड़ना

गले का हार

गले का हार होना

गले न उतरना

गले पड़ना

गले पर छुरी चलाना

गले पर छुरी फेरना

गले मढना

गले मढ़ना

गहरी छनना

गाँठ का पूरा आँख का अंधा

गाँठ में बाँधना

गांठ बंधना

गागर में सागर भरना

गाजर मूली समझना

गाजर – मूली समझना

गाढ़ी कमाई

गाढ़े दिन

गाढ़े में पड़ना

गाल फुलाना

गाल बजाना

गिन-गिनकर पैर रखना

गिरगिट की तरह रंग बदलना

गीदड़ धमकी

गीदड़ भभकी

गुजर जाना

गुड गोबर करना

गुड़ गोबर करना

गुड़ियों का खेल

गुदड़ी का लाल

गुरू घंटाल

गुल खिलना

गुल खिलाना

गुलछर्रे उड़ाना

गुस्सा पीना

गूँगे का गुड़

गूलर का कीड़ा

गूलर का फूल

गूलर का फूल होना

गेंहूँ के साथ घुन पिसना

गोटी लाल होना

गोता मारना

गोद भरना

गोद लेना

गोद सूनी होना

गोबर गणेश

गोरख धंधा

गोलमाल करना

गोली मारना

गौं का यार

ग्रीन सिगनल देना

घड़ी में तोला घड़ी में माशा

घड़ो पानी पड़ जाना

घड़ों पानी पड़ना

घनचक्कर

घपले में पड़ना

घर आबाद करना

घर उजड़ना

घर का आदमी –

घर का उजाला

घर का चिराग गुल होना

घर का न घाट का

घर का नाम डुबोना

घर का बोझ उठाना

घर का भेदी लंका ढाए

घर का मर्द

घर काट खाने दौड़ना

घर घाट एक करना

घर फूँककर तमाशा देखना

घर फूंककर तमाशा देखना

घर बसाना

घर में आग लगाना

घर में भुंजी भाँग न होना

घर सिर पर उठाना

घाट-घाट का पानी पीना

घात लगाना

घाव पर नमक छिडकना

घाव पर नमक छिड़कना

घाव पर मरहम लगाना

घाव हरा होना

घास खोदना

घास न डालना

घिग्घी बँध जाना

घी के दिए जलाना

घी के दीए जलाना

घी-दूध की नदियाँ बहना

घुट-घुट कर मरना

घुटना टेक देना

घुटना टेकना

घुटने टेकना

घुटा हुआ

घोड़े पर सवार होना

घोड़े बेचकर सोना

घोलकर पी जाना

चंगुल में आना

चंपत होना

चकमा देना

चकमे में आना

चक्कर में आना

चक्कर में डालना

चट कर जाना

चण्डाल चौकड़ी

चण्डूखाने की गप

चना-चबैना

चपत पड़ना

चप्पा-चप्पा छान डालना

चप्पा-चप्पा छान मारना

चमक उठना

चमड़ी उधेड़ना या खींचना

चमड़ी जाये पर दमड़ी न जाये

चम्पत हो जाना

चम्पत होना

चरणों की धूल

चरबी चढ़ना

चल निकलना

चल बसना

चलता पुर्जा

चलती चक्की में रोड़ा अटकना

चस्का लगना

चहरे पर हवाइयाँ उड़ना

चहरे पर हवाईयाँ उड़ना

चहल-पहल होना

चाँद का टुकड़ा

चाँद पर थूकना

चाँदी कटना

चाँदी का जूता

चाँदी का जूता मरना

चाँदी काटना

चाँदी ही चाँदी होना

चाँदी होना

चाकरी बजाना

चाचा बनाना

चाट पड़ना

चाणक्य नीति

चादर के बाहर पैर पसारना

चादर तान कर सोना

चादर देखकर पाँव पसारना

चादर से बाहर पैर पसारना

चार चाँद लगाना

चार दिन की चाँदनी

चार दिन की चांदनी

चार सौ बीस

चार सौ बीसी करना

चारो खाने चित्त गिरना

चिकना घडा होना

चिकना घड़ा होना

चिकनी-चुपड़ी बातें

चिकनी चुपड़ी बातें करना

चिकने घड़े पर पानी पड़ना

चिड़िया उड़ जाना

चिड़िया फँसाना

चिंगारी छोड़ना

चिराग तले अँधेरा

चिराग लेकर ढूँढना

चिल्ल-पौं मचना

चिल्ले का जाड़ा

चीं बोलना

चींटी के पर निकलना

चींटी के पर लगना या जमना

चुगली खाना/लगाना

चुटकी बजाते-बजाते

चुटकी लेना

चुटिया हाथ में लेना

चुटिया हाथ में होना

चुनौती देना

चुल्लू भर पानी में डूब मरना

चूँ-चूँ का मुरब्बा

चूँ न करना

चूड़ियाँ पहनना

चूना लगाना

चूर चूर कर देना

चूल्हा जलना

चूहे-बिल्ली का बैर

चेहरा उतरना

चेहरा खिलना

चेहरा तमतमाना

चेहरा बिगाड़ना

चेहरे का रंग उड़ना

चेहरे पर हवाई उड़ना

चैन की बंशी बजाना

चैन की वंशी बजाना

चैपट करना

चोटी और एड़ी का पसीना एक करना

चोटी का पसीना एडी तक आना

चोटी पर पहुँचना

चोला छोड़ना

चोली दामन का साथ

चौकड़ी भरना

चौखट पर माथा टेकना

चौदहवी का चाँद

छः पाँच करना

छक्के छुड़ाना

छक्के छूटना

छठी का दूध याद आना

छठे छमासे

छत्तीस का आँकड़ा

छप्पर फाड़ कर देना

छप्पर फाडकर देना

छलनी कर डालना

छाती जलना

छाती ठोकना

छाती दहलना

छाती दूनी होना

छाती पर पत्थर रखना

छाती पर मूंग दलना

छाती पर सवार होना

छाती पर साँप लोटना

छाती पीटना

छाती फुलाना

छाती फूलना

छाती सुलगना

छान बीन करना

छाप पड़ना

छिपा रुस्तम

छी छी करना

छुट्टी पाना

छुपा रुस्तम

छू मंतर होना

छू हो जाना

छेड़छाड़ करना

छोटा मुँह बड़ी बात

छोटे मुंह बड़ी बात करना

छौ-पाँच में पड़ना

जंगल में मंगल करना

जंजाल में फसना

जख्म पर नमक छिड़कना

जख्म हरा हो जाना

जड़ उखाड़ना

जबान खींचना

जबान चलाना

जबान देना

जबान पर चढना

जबान पर लगाम न होना

जबान बन्द करना

जबान में ताला लगाना

जबान में लगाम न होना

जबानी जमा

जमाना देखना

जमीन आसमान एक करना

जमीन आसमान का फर्क

जमीन का पैरों तले से निकल जाना

जमीन पर नाक रगड़ना

जमीन पर पाँव न पड़ना

जमीन पर पैर न रखना

जमीन में समा जाना

जरा -सा मुँह निकल आना

जल -भुन कर राख होना

जल में रहकर मगर से बैर करना

जलती आग में कूदना

जलती आग में घी डालना

जलती आग में तेल डालना

जली कटी सुनाना

जली -कटी सुनाना

जले पर नमक छिडकना

जवाब देना

जहर उगलना

जहर का घूँट पीना

जहर का घूंट पीना

जादू चढ़ना

जादू डालना

जान का प्यासा

जान के लाले पड़ना

जान खाना

जान छुड़ाना

जान न्योछावर करना

जान पर खेलना

जान को जान न समझना

जान में जान आना

जान हथेली पर रखना

जान हथेली पर लेना

जाल फेंकना

जाल में फँसना

जिंदगी के दिन पूरे करना

जिक्र छेड़ना

जिरह करना

जिसकी लाठी उसकी भैंस

जी उकताना

जी उड़ना

जी का जंजाल

जी का जंजाल होना

जी की जी में रहना

जी खट्टा होना

जी खोलकर

जी चुराना

जी जलना

जी-जान लड़ाना

जी जान से

जी टूटना

जी तोड़

जी धकधक करना

जी नहीं भरना

जी पर आ बनना

जी भर आना

जी भर के

जी भर जाना

जी मिचलाना

जी में आना

जी लगना

जी हल्का होना

जी हाँ जी हाँ करना

जीती मक्खी निगलना

जीते जी मर जाना

जीवट का आदमी

जीवन दान बनना

जुट जाना

जुल्म ढाना

जूतियाँ चटकाना

जूतियाँ चाटना

जूतियाँ सीधी करना

जूतियों में दाल बाँटना

जूती चाटना

जूते के बराबर न समझना

जूते पड़ना

जेब गर्म करना

जेब भरना

जैसे-तैसे करके

जोड़-तोड़ करना

जोड़-तोड़ करना

जोर चलना

जोर लगाना

जोश ठंडा पड़ना

जौहर दिखाना

ज्वाला फूँकना

झख मारना

झगड़ा मोल लेना

झटक लेना

झटका लगना

झण्डा गाड़ना

झण्डा फहराना

झण्डी दिखाना

झपट्टा मारना

झाँसा देना

झाँसे में आना

झाड़ फेरना

झाड़ मारना

झाड़ू फिरना

झाड़ू फिराना

झाड़ू फेरना

झाड़ू मारना

झापड़ रसीद करना

झूठ का पुतला

झूठ के पुल बाँधना

झोली भरना

टंटा खड़ा करना

टका सा जवाब देना

टका-सा मुँह लेकर रह जाना

टके के तीन

टके को भी न पूछना

टके सेर मिलना

टक्कर खाना

टक्कर लेना

टट्टी क ओट में शिकार करना

टट्टी की आड़ में शिकार खेलना

टपक पड़ना

टर-टर करना

टस से मस न होना

टाँग अड़ाना

टाँग खींचना

टाँग तोड़ना

टाँग पसारकर सोना

टाँय-टाँय फिस

टांग अडाना

टाऍ- टाऍ फिस होना

टाट उलटना

टालमटोल करना

टीस मारना

टीस उठना

टुकड़ों पर पलना

टुकुर-टुकुर देखना

टूट पड़ना

टें बोलना

टें-टें-पों-पों

टेक निभाना

टेढ़ी ऊँगली से घी निकालना

टेढ़ी खीर

टेढ़ी खीर होना

टोपी उछालना

टोह लेना

ट्रंप-कार्ड छोड़ना

ठंडा करना

ठंडा पड़ना

ठंडा होना

ठंडी आहें भरना

ठगा सा

ठट्टा मारना

ठठरी हो जाना

ठन जाना

ठन-ठन गोपाल

ठन-ठन गोपाल होना

ठहाका मारना

ठाट-बाट से रहना

ठिकाने आना

ठिकाने की बात कहना

ठिकाने लगाना

ठीकरा फोड़ना

ठेंगा दिखाना

ठेंगे पर मारना

ठेस पहुँचना

ठेस लगना

ठोंक बजाकर देखना

ठोकर खाना

ठोकरें खाना

ठोड़ी पकड़ना

डंक मारना

डंका पीटना

डंका बजाना

डंके की चोट पर

डंके की चोट पर कहना

डंडी मारना

डकार जाना

डकार तक न लेना

डबल रोल करना

डिक्टेटर होना

डींग मारना

डींग हाँकना

डुबकी मारना

डूबते को तिनके का सहारा होना

डूब मरना

डूबती नैया को पार लगाना

डेढ़ चावल की खिचड़ी अलग पकाना

ढाई चावल की खिचड़ी पकाना

डेरा उठाना

डेरा डालना

डोंड़ी पीटना

डोरे डालना

ड्यूटी बजाना

ढपोरशंख होना

ढर्रे पर आना

ढल जाना

ढलती-फिरती छाया

ढाई ईंट की मस्जिद

ढाई चावल की खिचड़ी अलग पकाना

ढाई दिन की बादशाहत

ढाई दिन की बादशाहत होना

ढाई दिन की बादशाहत मिलना

ढाक के तीन पात

ढिंढोरा पीटना

ढेर करना

ढेर हो जाना

ढेर होना

ढोंग रचना

ढोल की पोल

ढोल पीटना

ढोल में पोल होना

तंग करना

तंग हाथ होना

तंग हाल

तकदीर खुलना

तकदीर चमकना

तकदीर चमकाना

तकदीर फूटना

तख्ता उलटना

तख्ता पलटना

तबीयत फड़क उठना

तबीयत भरना

तरस खाना

तलवा चाटना

तलवे चाटना

तलवार की धार पर चलना

तलवार के घाट उतारना

तलवार सिर पर लटकना

तलवे धो कर पीना

तलवे धोकर पीना

तवे -सा मुँह

तशरीफ लाना

तह तक पहुँचना

तह-पर-तह देना

तहलका मचना

ताँता बंधना

तांत-सा होना

ताक-झाँक करना

ताक पर धरना

ताक में बैठना

ताक में रहना

ताड़ जाना

तानकर सोना

ताना मारना

तार-तार होना

तारीफ के पुल बाँधना

तारे गिनना

तारे तोड़ लाना

ताल ठोंकना

तालू में दाँत जमना

ताव आना

तिनके का सहारा

तिनके को पहाड़ करना

तिल का ताड़ कर देना

तिल का ताड़ बनाना

तिल-तिल करके मरना

तिल रखने की जगह न होना

तिलमिला उठना

तिलांजलि देना

तिलांजली देना

तीन कौड़ी का होना

तीन तेरह करना

तीन-तेरह में न रहना

तीन-तेरह होना

तीन-पाँच करना

तीनों लोक सूझना

तीर मार लेना

तीस मारखाँ बनना

तीसमार खां बनना

तुक न होना

तुक में तुक मिलाना

तुगलकी फरमान

तुल जाना

तू-तू मैं-मैं होना

तूती बोलना

तूफान उठना

तूफान मेल छोड़ना

तूल पकड़ना

तेल की कचौड़ियों पर गवाही देना

तेल निकालना

तेली का बैल

तेली का बैल होना

तेवर चढ़ाना

तेवर बदलना

तैश में आना

तोता पालना

तोते की तरह आँखें फेरना

तोबा करना

तौल-तौल कर मुँह से शब्द निकालना

त्राहि-त्राहि करना

त्रिशंकु बनना

त्रिशुंक होना

थक कर चूर होना

थर्रा उठना

थाली का बैंगन होना

थाह मिलना

थाह लगना

थाह लेना

थुक्का फजीहत होना

थुड़ी-थुड़ी करना

थुड़ी-थुड़ी होना

थू-थू करना

थूक कर चाटना

थूक से सत्तू सानना

थूककर चाटना

थैली का मुँह खोलना

थैली खोलना

थोथी बात होना

दफा होना

दबदबा मानना

दबी जबान से कहना

दबे पाँव आना

दबे पाँव जाना

दबे पाँव चलना

दम खींचना

दम साधना

दम घुटना

दम टूटना

दम तोड़ देना

दम बाँधना

दम भरना

दम मारना

दम में दम आना

दमड़ी के तीन होना

दमड़ी के लिए चमड़ी उधेड़ना

दर-दर की खाक छानना

दर-दर मारा-मारा फिरना

दर-दर मारा फिरना

दरदर भटकना

दरवाजे की मिट्टी खोद डालना

दरार पड़ना

दलदल में फसना

दशा फिरना

दसों उंगलियाँ घी में होना

दहिना हाथ होना

दाँत उखाड़ना

दाँत काटी रोटी होना

दाँत खट्टे करना

दाँत गड़ाना

दाँत गिनना

दाँत जमाना

दाँत तोड़ना

दाँत दिखाना

दाँत निपोरना

दाँत पीसकर रहना

दाँत पीसना

दाँत से दाँत बजना

दाँतों तले उँगली दबाना

दाँतों में जीभ-सा रहना

दाँतों में तिनका लेना

दाँव खेलना

दांत खट्टे करना

दांत तोडना

दांतकटी रोटी होना

दाई से पेट छिपाना

दाद देना

दाना पानी उठना

दाने-दाने को तरसना

दाने-दाने को मुंहताज

दाम खड़ा करना

दामन छुड़ाना

दामन पकड़ना

दायें-बायें देखना

दाल गलना

दाल भात का कौर समझना

दाल-भात में मूसलचन्द

दाल में काला होना

दाल रोटी चलना

दाव खेलना

दाहिना हाथ होना

दिन आना

दिन गँवाना

दिन दूना रात चौगुना

दिन दूना रात चौगुना होना

दिन पलटना

दिन पूरे होना

दिन फिरना

दिन में तारे दिखाई देना

दिन-रात एक करना

दिन लद जाना

दिनों का फेर होना

दिमाग आसमान पर चढना

दिमाग आसमान से उतरना

दिमाग खाना

दिमाग खाली करना

दिमाग चाटना

दिमाग आसमान पर होना

दिमाग चढ़ना पर होना

दिमाग दौड़ाना

दिमाग सातवें आसमान पर होना

दिया लेकर ढूँढना

दिल कड़ा करना

दिल का खोटा

दिल का काला

दिल का गवाही देना

दिल का गुबार निकालना

दिल की कली खिलना

दिल की गाँठ खोलना

दिल की दिल में रह जाना

दिल के अरमान निकलना

दिल के फफोले फोड़ना

दिल चुराना

दिल छोटा करना

दिल जमना

दिल टुकड़े -टुकड़े होना या दिल टूटना

दिल टूटना

दिल ठिकाने होना

दिल दरिया होना

दिल देना

दिल पर पत्थर रखना

दिल पसीजना

दिल बढ़ाना

दिल बल्लियों उछलना

दिल बाग -बाग होना

दिल बुझना

दिल से दूर करना

दिल हिलना

दिल्लगी करना

दिल्ली दूर होना

दीदे का पानी ढल जाना

दीन -दुनिया की खबर न होना

दीन दुनिया भूल जाना

दीवारों के कान होना

दुकान बढ़ाना

दुखती रग को छूना

दुनिया की हवा लगना

दुनिया से उठ जाना

दुम दबाकर भागना

दुश्मनी मोल लेना

दूज का चाँद होना

दूज का चाँद होना

ईद का चाँद होना

दूध का दूध और पानी का पानी कर देना

दूध का दूध पानी का पानी करना

दूध का धुला

दूध का -सा उबाल आना

दूध की नदियाँ बहना

दूध की मक्खी

दूध की लाज रखना

दूध के दाँत न टूटना

दूध के दांत न टूटना

दूध पीता बच्चा

दूध में से मक्खी की तरह निकालकर फेंकना

दूधो नहाओ पूतो फलो

दूर के ढोल सुहावने

दूर के ढोल सुहावने होना

दूर के ढोल सुहावने लगना

दूर्वासा का रूप

दूसरे के कंधे पर रखकर बंदूक चलाना

दृष्टि फिरना

देखते रह जाना

देखते ही बनना

देवलोक सिधारना

देह टूटना

देह भरना

दो कौड़ी का आदमी

दो टूक कहना

दो टूक बात कहना

दो दिन का मेहमान

दो-दो हाथ होना

दो नाव पर पैर रखना

दो नावों पर सवार होना

दो-दो हाथ करना

दोनों हाथों में लड्डू होना

दोनों हाथों से लुटाना

दौड़ धूप करना

दौड़ -धूप करना

द्रविड़ प्रणायाम करना

द्रोपदी का चीर होना

द्वार-द्वार फिरना

द्वार लगाना

धक्का देना

धक्का लगाना

धज्जियाँ उड़ाना

धतूरा खाए फिरना

धन-कुबेर

धनुष तोड़ना

धमाचौकड़ी मचाना

धरती पर पाँव न रखना

धरना देना

धाँधली मचाना

धाक जमाना

धीरज बँधाना

धुआँ सा मुंह होना

धुएँ के बादल उड़ाना

धुन का पक्का

धुन सवार होना

धुनी रमाना

धुल फांकना

धुल में मिलना

धूनी रमाना

धूप में बाल सफेद करना

धूल चाटना

धूल छानना

धूल फाँकना

धोखा देना

धोती ढीली होना

धोबी का कुत्ता

धोबी का कुत्ता घर का न घाट का

ध्यान में न लाना

ध्यान से उतरना

न इधर का न उधर का

न इधर का न उधर का

न घर का रहना न घाट का

न लेना न देना

नंगा कर देना

नंगा नाच करना

नंबर आना

नंबर दो का पैसा/रुपया

नंबर मारना

नकेल हाथ मेँ होना

नकेल हाथ में होना

नखरे उठाना

नजर अंदाज करना

नजर आना

नजर उतारना

नजर करना

नजर चुराना

नजर डालना

नजर दौड़ाना

नजर पर चढ़ना

नजर बचाकर

नजर रखना

नजर लड़ाना

नजर से गिरना

नजरबंद करना

नदी नाव का संयोग

नब्ज छूटना

नमक अदा करना

नमक का हक अदा करना

नमक मिर्च लगाना

नमक हलाल करना

नमकहराम होना

नयनों का तारा

नशा उतरना

नशा काफूर होना

नस-नस ढीली होना

नस-नस पहचानना

नसीब चमकना

नसीब फूटना

नाक ऊँची रखना

नाक ऊँची होना

नाक कट जाना

नाक कटना

नाक का बाल होना

नाक कटना

नाक-कान काटना

नाक के नीचे

नाक भौं चढ़ाना

नाक-भौं सिकोड़ना

नाक में दम करना

नाक में नकेल डालना

नाक रखना

नाक रगड़ना

नाक रहना

नाकों चने चबवा देना

नाकों चने चबवाना

नाच नचाना

नादिरशाही हुक्म

नानी मर जाना

नानी याद आना

नाम उछालना

नाम कमाना

नाम डुबोना

नारद मुनि

नाव पार लगाना

नैया पार लगाना

निछावर करना

निन्यानबे के फेर में पड़ना

नींद हराम करना

नींद हराम होना

नींव डालना

नीचा दिखाना

नीला-पीला होना

नुक्ताचीनी करना

नेकी और पूंछ-पूंछ

नोंक-झोंक होना

नौ दिन चले ढाई कोस

नौ दो ग्यारह होना

नौकरी बजाना

नौबत आना

पंख लगना

पंचतत्व को प्राप्त करना

पंथ निहारना

पंथ देखना

पगड़ी उछालना

पगड़ी उतारना

पगड़ी रखना

पजामे से बाहर होना

पटरा कर देना

पट्टी पढ़ाना

पते की कहना

पत्ता कटना

पत्ता खड़कना

पत्थर का कलेजा

पत्थर की लकीर

पत्थर पर दूब जमना

पत्थर से सिर फोड़ना

परछाई से भी डरना

परशुराम का कोप

पर्दा उठना

पर्दाफाश करना

पर्दाफाश होना

पलक-पाँवड़े बिछाना

पलक लगना

पलकें बिछाना

पलकों पर बिठाना

पलकों में रात बीतना

पलस्तर करना

पल्ला छुड़ाना

पल्ला झाड़ना

पल्ला पकड़ना

पसीना-पसीना होना

पसीने की कमाई

पसीने की जगह खून बहाना

पसीने-पसीने होना

पहलू बचाना

पहाड़ टूट पड़ना

पहाड़ टूट पड़ना

पहाड़ से टक्कर लेना

पाँचों उँगलियाँ घी में होना

पाँव उखड़ जाना

पाँव खींचना

पाँव चूमना

पाँव तले की मिट्टी

पाँव तले से धरती खिसकना

पाँव धोकर पीना

पाँव पड़ना

पाँव फिसलना

पाँव फूंक फूंक कर रखना

पाँव फूलना

पाँव भारी होना

पाँव में बेड़ी पड़ना

पाँवों में पर लगना

पाँवों में मेंहदी लगना

पाँसा पलटना

पांचाली चीर

पाकेट गर्म करना

पानी उतारना

पानी करना

पानी का बुलबुला

पानी की तरह पैसा बहाना

पानी की तरह रुपया बहाना

पानी जाना

पानी न माँगना

पानी पर नींव डालना

पानी पानी होना

पानी पी पीकर कोसना

पानी पीकर जाति पूछना

पानी फिर जाना

पानी फेर देना

पानी फेरना

पानी में आग लगाना

पानी रखना

पाप का घड़ा भरना

पापड़ बेलना

पार लगाना

पारा उतरना

पारा चढ़ना

पार्सल करना

पाला पड़ना

पासा पलटना

पिंड छुड़ाना

पिल पड़ना

पीछा छुड़ाना

पीठ की खाल उधेड़ना

पीठ ठोंकना

पीठ ठोकना

पीठ दिखाना

पीठ पर होना

पीठ फेरना

पीस डालना

पुरजा ढीला होना

पुरानी लकीर का फकीर होना

पुरानी लकीर पीटना

पूरा न पड़ना

पेंशन लेना

पेट का गहरा

पेट का हल्का

पेट काटना

पेट पर लात मारना

पेट पीठ एक होना

पेट बाँधकर रहना

पेट में चूहे कूदना

पेट में चूहे दौड़ना

पेट में दाढ़ी होना

पेट में बल पड़ना

पेट में बात न पचना

पैंतरे बदलना

पैर उखड़ना

पैर न टिकना

पैर पकड़ना

पैर फैलाकर सोना

पैरेड करना

पैरों तले जमीन खिसकना

पैरों में मेंहदी लगाकर बैठना

पैसा खींचना

पैसा डूबना

पॉकेट गरम करना

पॉलिश करना

पोल खुलना

पोल खोलना

पौ फटना

प्रशंसा के पुल बाँधना

प्राण कंठगत होना

प्राण डालना

प्राण-पखेरू का उड़ना

प्राण मुंह को आना

प्राण सूख जाना

प्राण सूखना

प्राण हथेली पर लेना

प्राण हथेली में लेना

प्राण हरना

प्राणों की बाजी लगाना

प्राणों पर खेलना

प्राणों से हाथ धोना

फंदे में पड़ना

फंदे में फँसना

फक हो जाना

फट पड़ना

फटे में पाँव देना

फटे हाल होना

फटेहाल होना

फफोले फोड़ना

फब्तियाँ कसना

फब्तियां कसना

फल चखना

फाख्ता उड़ाना

फिट करना होना

फ़िल्म-स्टार बनना

फुलझड़ी छोड़ना

फूँक निकल जाना

फूँककर पहाड़ उड़ाना

फूंक-फूंक कर कदम रखना

फूंक से पहाड़ उड़ाना

फूट डालना

फूट-फूट कर रोना

फूटी आँखों न भाना

फूटी आँखों न सुहाना

फूटी कौड़ी भी न होना

फूल झड़ना

फूल सूँघकर रहना

फूलकर कुप्पा हो जाना

फूलकर कुप्पा होना

फूलना-फलना

फूला न समाना

फूलों से तौला जाना

फेर में डालना

फोर टवेंटी करना

फोर टवेंटी होना

बखिया उधेड़ना

बगलें झाँकना

बगुला भगत

बछिया का ताऊ

बटरिंग करना

बट्टा लगाना

बड़े घर की हवा खाना

बदन में आग लग जाना

बना बनाया खेल बिगड़ जाना

बन्दर घुड़की

बरस पड़ना

बलि जाना

बल्लियों उछलना

बहती गंगा में हाथ धोना

बहत्तर घाट का पानी पीना

बाँछें खिल जाना

बाँसों उछलना

बाँह गहना

बाँह पकड़ना

बाँह चढ़ाना

बाँह टूटना

बाँह देना

बाएँ हाथ का खेल

बाग बाग होना

बाज न आना

बाजार गर्म होना

बाजी ले जाना

बाजी मारना

बाट जोहना

बात का धनी

बात का धनी होना

बात का बतंगड़ बनाना

बात काटना

बात की बात में

बात को गाँठ में बाँधना

बात खुलना

बात चलाना

बात तक न पूछना

बात न पूछना

बात पर न जाना

बात पी जाना

बात बढ़ना

बात बढ़ाना

बात बनाना

बात रहना

बातों में आना

बातों में उड़ाना

बारह बाट करना

बाल की खाल निकलना

बाल बाँका न करना

बाल-बाल बचना

बालू की भीत

बासी कढ़ी में उबाल आना

बिल्ली के गले में घंटी बंधना

बीड़ा उठाना

बुखार उतारना

बुढ़ापे की लाठी

बुद्धि पर पत्थर पड़ना

बुरा फँसना

बुरा मानना

बे पर की उड़ाना

बे सिर पैर की बात करना

बेड़ा गर्क करना

बेडा पार लगाना

बेपेंदी का लोटा

बेपेंदी का लौटा

बेवक्त की शहनाई बजाना

बेसिर-पैर की बात करना

बैक-ग्राउंड में रहना

बैरंग लौटाना

बैरंग लौटना

बैलून हो जाना

बोलती बंद करना

बोलबाला होना

ब्रह्म पाश

ब्रह्म फांस

ब्रह्मास्त्र छोड़ना

ब्रेक लगाना

ब्रेक लगना

ब्लैंक चेक काटना

ब्लैंक मारकेटिंग करना

भँवरा बना फिरना

भंडा फूटना

भंडा फोड़ना

भगवान को प्यारे हो जाना

भगीरथ प्रयत्न

भनक पड़ना

भभूत रमाना

भर नजर देखना

भरी थाली में लात मारना

भांजी मारना

भाग्य खुलना

भाग्य फूटना

भाड़ झोंकना

भाड़े का टट्टू

भानमती का कुनबा जोड़ना

भानुमती का पिटारा

भार उठाना

भार उतारना

भारी लगना

भीगी बिल्ली बनना

भीगी बिल्ली होना

भीष्म प्रतिज्ञा

भीष्म प्रतिज्ञा करना

भुजा उठा कर कहना

भूँजी भाँग न होना

भूत उतरना

मुहावरे वर्कशीट

भाषा

संज्ञा

सर्वनाम

लिंग

वचन

विशेषण

विलोम शब्द

विराम चिह्न

वाक्य रचना

कारक

मुहावरे

उपसर्ग

समास

हिंदी व्याकरण वर्कशीट

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *